वह मनुष्य विवेकवान् है, जो भविष्य से न तो आशा रखता है और न भयभीत ही होता है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

वह मनुष्य विवेकवान् है, जो भविष्य से न तो आशा रखता है और न भयभीत ही होता है। : Vah manushya vivekvaan hai jo bhavishya se na to aasha rakhta hai aur na hi bhaybheet hota hai. - प्रज्ञा सुभाषितवह मनुष्य विवेकवान् है, जो भविष्य से न तो आशा रखता है और न भयभीत ही होता है। : Vah manushya vivekvaan hai jo bhavishya se na to aasha rakhta hai aur na hi bhaybheet hota hai. - प्रज्ञा सुभाषित

vah manushya vivekvaan hai jo bhavishya se na to aasha rakhta hai aur na hi bhaybheet hota hai. | वह मनुष्य विवेकवान् है, जो भविष्य से न तो आशा रखता है और न भयभीत ही होता है।