वही जीवति है, जिसका मस्तिष्क ठण्डा, रक्त गरम, हृदय कोमल और पुरुषार्थ प्रखर है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

वही जीवति है, जिसका मस्तिष्क ठण्डा, रक्त गरम, हृदय कोमल और पुरुषार्थ प्रखर है। : Vah jeevati hai jiska mastishka thanda, rakta garam, hriday komal aur purusharth prakhar hai. - प्रज्ञा सुभाषितवही जीवति है, जिसका मस्तिष्क ठण्डा, रक्त गरम, हृदय कोमल और पुरुषार्थ प्रखर है। : Vah jeevati hai jiska mastishka thanda, rakta garam, hriday komal aur purusharth prakhar hai. - प्रज्ञा सुभाषित

vah jeevati hai jiska mastishka thanda, rakta garam, hriday komal aur purusharth prakhar hai. | वही जीवति है, जिसका मस्तिष्क ठण्डा, रक्त गरम, हृदय कोमल और पुरुषार्थ प्रखर है।