केवल ज्ञान ही एक ऐसा अक्षय तत्त्व है, जो कहीं भी, किसी अवस्था और किसी काल में भी मनुष्य का साथ नहीं छोड़ता।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

केवल ज्ञान ही एक ऐसा अक्षय तत्त्व है, जो कहीं भी, किसी अवस्था और किसी काल में भी मनुष्य का साथ नहीं छोड़ता। : Keval gyaan hi ek aisa akshay tatva hai, jo kahin bhi kisi bhi avastha me kisi bhi kaal me sath nahi chhodta. - प्रज्ञा सुभाषितकेवल ज्ञान ही एक ऐसा अक्षय तत्त्व है, जो कहीं भी, किसी अवस्था और किसी काल में भी मनुष्य का साथ नहीं छोड़ता। : Keval gyaan hi ek aisa akshay tatva hai, jo kahin bhi kisi bhi avastha me kisi bhi kaal me sath nahi chhodta. - प्रज्ञा सुभाषित

keval gyaan hi ek aisa akshay tatva hai, jo kahin bhi kisi bhi avastha me kisi bhi kaal me sath nahi chhodta. | केवल ज्ञान ही एक ऐसा अक्षय तत्त्व है, जो कहीं भी, किसी अवस्था और किसी काल में भी मनुष्य का साथ नहीं छोड़ता।