मनुष्य एक भटका हुआ देवता है। सही दिशा पर चल सके, तो उससे बढ़कर श्रेष्ठ और कोई नहीं।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

मनुष्य एक भटका हुआ देवता है। सही दिशा पर चल सके, तो उससे बढ़कर श्रेष्ठ और कोई नहीं। : Manushya ek bhatka hua devta hai, sahi disha par chal sake to usse badhlar koi shreshta nahi hai. - प्रज्ञा सुभाषितमनुष्य एक भटका हुआ देवता है। सही दिशा पर चल सके, तो उससे बढ़कर श्रेष्ठ और कोई नहीं। : Manushya ek bhatka hua devta hai, sahi disha par chal sake to usse badhlar koi shreshta nahi hai. - प्रज्ञा सुभाषित

manushya ek bhatka hua devta hai, sahi disha par chal sake to usse badhlar koi shreshta nahi hai. | मनुष्य एक भटका हुआ देवता है। सही दिशा पर चल सके, तो उससे बढ़कर श्रेष्ठ और कोई नहीं।