संसार में रहने का सच्चा तत्त्वज्ञान यही है कि प्रतिदिन एक बार खिलखिलाकर जरूर हँसना चाहिए।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

संसार में रहने का सच्चा तत्त्वज्ञान यही है कि प्रतिदिन एक बार खिलखिलाकर जरूर हँसना चाहिए। : Sansar me rehne ka sachcha tatvagyan yahi hai ki pratidin ek baar khilkhilaakar jaroor hansna chahiye. - प्रज्ञा सुभाषितसंसार में रहने का सच्चा तत्त्वज्ञान यही है कि प्रतिदिन एक बार खिलखिलाकर जरूर हँसना चाहिए। : Sansar me rehne ka sachcha tatvagyan yahi hai ki pratidin ek baar khilkhilaakar jaroor hansna chahiye. - प्रज्ञा सुभाषित

sansar me rehne ka sachcha tatvagyan yahi hai ki pratidin ek baar khilkhilaakar jaroor hansna chahiye. | संसार में रहने का सच्चा तत्त्वज्ञान यही है कि प्रतिदिन एक बार खिलखिलाकर जरूर हँसना चाहिए।