क्रोध का भोजन ‘विवेक’ है, अतः इससे बचके रहना चाहिए। क्योंकि ‘विवेक’ नष्ट हो जाने पर, सब कुछ नष्ट हो जाता है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

क्रोध का भोजन ‘विवेक’ है, अतः इससे बचके रहना चाहिए। क्योंकि ‘विवेक’ नष्ट हो जाने पर, सब कुछ नष्ट हो जाता है। : Krodh ka bhojan vivek hai. isiliye iske bachke rahna chahiye  kyonki vivek ke nashta ho jane par sab kuchh nasht ho jata hai. - महर्षि दयानंद सरस्वतीक्रोध का भोजन ‘विवेक’ है, अतः इससे बचके रहना चाहिए। क्योंकि ‘विवेक’ नष्ट हो जाने पर, सब कुछ नष्ट हो जाता है। : Krodh ka bhojan vivek hai. isiliye iske bachke rahna chahiye  kyonki vivek ke nashta ho jane par sab kuchh nasht ho jata hai. - महर्षि दयानंद सरस्वती

krodh ka bhojan vivek hai. isiliye iske bachke rahna chahiye kyonki vivek ke nashta ho jane par sab kuchh nasht ho jata hai. | क्रोध का भोजन ‘विवेक’ है, अतः इससे बचके रहना चाहिए। क्योंकि ‘विवेक’ नष्ट हो जाने पर, सब कुछ नष्ट हो जाता है।