ईष्या से मनुष्य को हमेशा दूर रहना चाहिए। क्योकि ये ‘मनुष्य’ को अन्दर ही अन्दर जलाती रहती है और पथ से भटकाकर पथ भ्रष्ट कर देती है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

ईष्या से मनुष्य को हमेशा दूर रहना चाहिए। क्योकि ये ‘मनुष्य’ को अन्दर ही अन्दर जलाती रहती है और पथ से भटकाकर पथ भ्रष्ट कर देती है। : Irshya se manushya ko door rahna chahiye kyonki yah manushya ko andar hi andar jalaati rehti hai aur pathbhrashta kar deti hai. - महर्षि दयानंद सरस्वतीईष्या से मनुष्य को हमेशा दूर रहना चाहिए। क्योकि ये ‘मनुष्य’ को अन्दर ही अन्दर जलाती रहती है और पथ से भटकाकर पथ भ्रष्ट कर देती है। : Irshya se manushya ko door rahna chahiye kyonki yah manushya ko andar hi andar jalaati rehti hai aur pathbhrashta kar deti hai. - महर्षि दयानंद सरस्वती

irshya se manushya ko door rahna chahiye kyonki yah manushya ko andar hi andar jalaati rehti hai aur pathbhrashta kar deti hai. | ईष्या से मनुष्य को हमेशा दूर रहना चाहिए। क्योकि ये ‘मनुष्य’ को अन्दर ही अन्दर जलाती रहती है और पथ से भटकाकर पथ भ्रष्ट कर देती है।