लोभ वो अवगुण है, जो दिन प्रति दिन तब तक बढता ही जाता है, जब तक मनुष्य का विनाश ना कर दे।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

लोभ वो अवगुण है, जो दिन प्रति दिन तब तक बढता ही जाता है, जब तक मनुष्य का विनाश ना कर दे। : Lobh vah avgun hai jo pratidin tab tak badhta hai jab tak ki manushya ka vinaash na kar de - महर्षि दयानंद सरस्वतीलोभ वो अवगुण है, जो दिन प्रति दिन तब तक बढता ही जाता है, जब तक मनुष्य का विनाश ना कर दे। : Lobh vah avgun hai jo pratidin tab tak badhta hai jab tak ki manushya ka vinaash na kar de - महर्षि दयानंद सरस्वती

lobh vah avgun hai jo pratidin tab tak badhta hai jab tak ki manushya ka vinaash na kar de | लोभ वो अवगुण है, जो दिन प्रति दिन तब तक बढता ही जाता है, जब तक मनुष्य का विनाश ना कर दे।