जो व्यक्ति कभी कुछ कभी कुछ करते हैं, वे अन्तत: कहीं भी नहीं पहुँच पाते।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

जो व्यक्ति कभी कुछ कभी कुछ करते हैं, वे अन्तत: कहीं भी नहीं पहुँच पाते। : Jo vyakti kabhi kuchh to kabhi kuchh karte hain ve antatah kahin bhi nahi pahunch paate. - प्रज्ञा सुभाषितजो व्यक्ति कभी कुछ कभी कुछ करते हैं, वे अन्तत: कहीं भी नहीं पहुँच पाते। : Jo vyakti kabhi kuchh to kabhi kuchh karte hain ve antatah kahin bhi nahi pahunch paate. - प्रज्ञा सुभाषित

jo vyakti kabhi kuchh to kabhi kuchh karte hain ve antatah kahin bhi nahi pahunch paate. | जो व्यक्ति कभी कुछ कभी कुछ करते हैं, वे अन्तत: कहीं भी नहीं पहुँच पाते।