हर व्यक्ति जाने या अनजाने में अपनी परिस्थितियों का निर्माण आप करता है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

हर व्यक्ति जाने या अनजाने में अपनी परिस्थितियों का निर्माण आप करता है। : Har vyakti jaane ya anjaane me apni paristhitiyo ka nirmaan aap karta hai - प्रज्ञा सुभाषितहर व्यक्ति जाने या अनजाने में अपनी परिस्थितियों का निर्माण आप करता है। : Har vyakti jaane ya anjaane me apni paristhitiyo ka nirmaan aap karta hai - प्रज्ञा सुभाषित

har vyakti jaane ya anjaane me apni paristhitiyo ka nirmaan aap karta hai | हर व्यक्ति जाने या अनजाने में अपनी परिस्थितियों का निर्माण आप करता है।