प्रस्तुत उलझनें और दुष्प्रवृत्तियाँ कहीं आसमान से नहीं टपकीं। वे मनुष्य की अपनी बोयी, उगाई और बढ़ाई हुई हैं।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

प्रस्तुत उलझनें और दुष्प्रवृत्तियाँ कहीं आसमान से नहीं टपकीं। वे मनुष्य की अपनी बोयी, उगाई और बढ़ाई हुई हैं। : Prastut uljhane aur dushpravrittiyan kahin aasman se nahi tapkee. ve manushya ki apni boyi, ugaai aur badhaayi hui hain. - प्रज्ञा सुभाषितप्रस्तुत उलझनें और दुष्प्रवृत्तियाँ कहीं आसमान से नहीं टपकीं। वे मनुष्य की अपनी बोयी, उगाई और बढ़ाई हुई हैं। : Prastut uljhane aur dushpravrittiyan kahin aasman se nahi tapkee. ve manushya ki apni boyi, ugaai aur badhaayi hui hain. - प्रज्ञा सुभाषित
1 Comment
  1. Abhishek says

    Super….

Leave A Reply

Your email address will not be published.