वह स्थान मंदिर है, जहाँ पुस्तकों के रूप में मूक; किन्तु ज्ञान की चेतनायुक्त देवता निवास करते हैं।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

वह स्थान मंदिर है, जहाँ पुस्तकों के रूप में मूक; किन्तु ज्ञान की चेतनायुक्त देवता निवास करते हैं। : Vah sthan mandir hai, jahan pustako ke roop me mook kintu gyaan ki chetnayukt devta nivas karte hain. - प्रज्ञा सुभाषितवह स्थान मंदिर है, जहाँ पुस्तकों के रूप में मूक; किन्तु ज्ञान की चेतनायुक्त देवता निवास करते हैं। : Vah sthan mandir hai, jahan pustako ke roop me mook kintu gyaan ki chetnayukt devta nivas karte hain. - प्रज्ञा सुभाषित

vah sthan mandir hai, jahan pustako ke roop me mook kintu gyaan ki chetnayukt devta nivas karte hain. | वह स्थान मंदिर है, जहाँ पुस्तकों के रूप में मूक; किन्तु ज्ञान की चेतनायुक्त देवता निवास करते हैं।