मनोविकारों से परेशान, दु:खी, चिंतित मनुष्य के लिए उनके दु:ख-दर्द के समय श्रेष्ठ पुस्तकें ही सहारा है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

मनोविकारों से परेशान, दु:खी, चिंतित मनुष्य के लिए उनके दु:ख-दर्द के समय श्रेष्ठ पुस्तकें ही सहारा है। : Manovikaro se pareshan, dukhi chintit manushya ke liye unke dukh dard ke samayu shreshta putake hi sahara hain - प्रज्ञा सुभाषितमनोविकारों से परेशान, दु:खी, चिंतित मनुष्य के लिए उनके दु:ख-दर्द के समय श्रेष्ठ पुस्तकें ही सहारा है। : Manovikaro se pareshan, dukhi chintit manushya ke liye unke dukh dard ke samayu shreshta putake hi sahara hain - प्रज्ञा सुभाषित

manovikaro se pareshan, dukhi chintit manushya ke liye unke dukh dard ke samayu shreshta putake hi sahara hain | मनोविकारों से परेशान, दु:खी, चिंतित मनुष्य के लिए उनके दु:ख-दर्द के समय श्रेष्ठ पुस्तकें ही सहारा है।