प्रखर और सजीव आध्यात्मिकता वह है, जिसमें अपने आपका निर्माण दुनिया वालों की अँधी भेड़चाल के अनुकरण से नहीं, वरन् स्वतंत्र विवेक के आधार पर कर सकना संभव हो सके।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

प्रखर और सजीव आध्यात्मिकता वह है, जिसमें अपने आपका निर्माण दुनिया वालों की अँधी भेड़चाल के अनुकरण से नहीं, वरन् स्वतंत्र विवेक के आधार पर कर सकना संभव हो सके। : Prakhar aur sajeev aadhyatmikta vah hai jisme apne aap ka nirmaan duniya ki andhi bhedchal ke anukaran se nahi varan svatantra vivek ke aadhar par kar sakna sambhav ho sake. - प्रज्ञा सुभाषितप्रखर और सजीव आध्यात्मिकता वह है, जिसमें अपने आपका निर्माण दुनिया वालों की अँधी भेड़चाल के अनुकरण से नहीं, वरन् स्वतंत्र विवेक के आधार पर कर सकना संभव हो सके। : Prakhar aur sajeev aadhyatmikta vah hai jisme apne aap ka nirmaan duniya ki andhi bhedchal ke anukaran se nahi varan svatantra vivek ke aadhar par kar sakna sambhav ho sake. - प्रज्ञा सुभाषित

prakhar aur sajeev aadhyatmikta vah hai jisme apne aap ka nirmaan duniya ki andhi bhedchal ke anukaran se nahi varan svatantra vivek ke aadhar par kar sakna sambhav ho sake. | प्रखर और सजीव आध्यात्मिकता वह है, जिसमें अपने आपका निर्माण दुनिया वालों की अँधी भेड़चाल के अनुकरण से नहीं, वरन् स्वतंत्र विवेक के आधार पर कर सकना संभव हो सके।