इंसान जितना अपने मन को मना सके उतना खुश रह सकता है।

रचनाकार :
इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

इंसान जितना अपने मन को मना सके उतना खुश रह सकता है। : Insaan jitna chahe aone man ko mana sake utna hi khush rah sakta hai. - अब्राहम लिंकनइंसान जितना अपने मन को मना सके उतना खुश रह सकता है। : Insaan jitna chahe aone man ko mana sake utna hi khush rah sakta hai. - अब्राहम लिंकन

Leave A Reply

Your email address will not be published.