धर्म पर आधारित मूल विचार व्यक्ति के आध्यात्मिक विकास के लिए एक वातावरण बनाना है - dharm par aadhaarit mool vichaar vyakti ke aadhyaatmik vikaas ke lie ek vaataavaran banaana hai. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

धर्म पर आधारित मूल विचार व्यक्ति के आध्यात्मिक विकास के लिए एक वातावरण बनाना है। : Dharm par aadhaarit mool vichaar vyakti ke aadhyaatmik vikaas ke lie ek vaataavaran banaana hai. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

भाग्य से ज्यादा अपने आप पर विश्वास करो। भाग्य में विश्वास रखने के बजाय शक्ति और कर्म में विश्वास रखना चाहिए - bhaagy se jyaada aap apane aap par vishvaas karate hain. bhaagy mein vishvaas rakhane ke bajaay shakti aur karm mein vishvaas rakhana chaahie. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

भाग्य से ज्यादा अपने आप पर विश्वास करो। भाग्य में विश्वास रखने के बजाय शक्ति और कर्म में विश्वास रखना चाहिए। : Bhaagy se jyaada aap apane aap par vishvaas karate hain. bhaagy mein vishvaas rakhane ke bajaay shakti aur karm mein vishvaas rakhana chaahie. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

मेरी प्रशंसा और जय-जय कार करने से अच्छा है, मेरे दिखाये गए मार्ग पर चलो - meree prashansa aur jay-jay kaar karane se achchha hai, mere dikhaaye gae maarg par chalo. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

मेरी प्रशंसा और जय-जय कार करने से अच्छा है, मेरे दिखाये गए मार्ग पर चलो। : Meree prashansa aur jay-jay kaar karane se achchha hai, mere dikhaaye gae maarg par chalo. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

यदि हम एक संयुक्त एकीकृत आधुनिक भारत चाहते हैं, तो सभी धर्मों के धर्मग्रंथों की संप्रभुता का अंत होना चाहिए - yadi ham ek sanyukt ekeekrt aadhunik bhaarat chaahate hain, to sabhee dharmon ke dharmagranthon kee samprabhuta ka ant hona chaahie. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

यदि हम एक संयुक्त एकीकृत आधुनिक भारत चाहते हैं, तो सभी धर्मों के धर्मग्रंथों की संप्रभुता का अंत होना चाहिए। : Yadi ham ek sanyukt ekeekrt aadhunik bhaarat chaahate hain, to sabhee dharmon ke dharmagranthon kee samprabhuta ka ant hona chaahie. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

जो धर्म जन्म से एक को श्रेष्ठ और दूसरे को नीच बताये वह धर्म नहीं, गुलाम बनाए रखने का षड़यंत्र है - jo dharm jayamm se ek ko shrey aur doosare ko neech bata vah dharm nahin, gulaam banae rakhane ka shadayantr hai. : डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

जो धर्म जन्म से एक को श्रेष्ठ और दूसरे को नीच बताये वह धर्म नहीं, गुलाम बनाए रखने का षड़यंत्र है। : Jo dharm jayamm se ek ko shrey aur doosare ko neech bata vah dharm nahin, gulaam banae rakhane ka shadayantr hai. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर