यदि हम एक संयुक्त एकीकृत आधुनिक भारत चाहते हैं, तो सभी धर्मों के धर्मग्रंथों की संप्रभुता का अंत होना चाहिए।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

यदि हम एक संयुक्त एकीकृत आधुनिक भारत चाहते हैं, तो सभी धर्मों के धर्मग्रंथों की संप्रभुता का अंत होना चाहिए। : Yadi ham ek sanyukt ekeekrt aadhunik bhaarat chaahate hain, to sabhee dharmon ke dharmagranthon kee samprabhuta ka ant hona chaahie. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकरयदि हम एक संयुक्त एकीकृत आधुनिक भारत चाहते हैं, तो सभी धर्मों के धर्मग्रंथों की संप्रभुता का अंत होना चाहिए। : Yadi ham ek sanyukt ekeekrt aadhunik bhaarat chaahate hain, to sabhee dharmon ke dharmagranthon kee samprabhuta ka ant hona chaahie. - डॉ॰ बी॰ आर॰ अम्बेडकर

yadi ham ek sanyukt ekeekrt aadhunik bhaarat chaahate hain, to sabhee dharmon ke dharmagranthon kee samprabhuta ka ant hona chaahie. | यदि हम एक संयुक्त एकीकृत आधुनिक भारत चाहते हैं, तो सभी धर्मों के धर्मग्रंथों की संप्रभुता का अंत होना चाहिए।