बोधविचार - प्रेरक, ज्ञानपूर्ण व बेहतरीन विचारों का संग्रह

अगर हमारी करोड़ों की दौलत भी चली जाए या फिर हमारा पूरा जीवन बलिदान हो जाए तो भी हमें ईश्वर में विश्वास और उसके सत्य पर विश्वास रखकर प्रसन्न रहना चाहिए - agar hamaare karodon kee daulat bhee chalee jae ya phir hamaara poora jeevan balidaan ho jae to hamen bhee eeshvar mein vishvaas aur usake saty par vishvaas rakhana chaahie. : सरदार वल्लभ भाई पटेल

अगर हमारी करोड़ों की दौलत भी चली जाए या फिर हमारा पूरा जीवन बलिदान हो जाए तो भी हमें ईश्वर में विश्वास और उसके सत्य पर विश्वास रखकर प्रसन्न रहना चाहिए। : Agar hamaare karodon kee daulat bhee chalee jae ya phir hamaara poora jeevan balidaan ho jae to hamen bhee eeshvar mein vishvaas aur usake saty par vishvaas rakhana chaahie. - सरदार वल्लभ भाई पटेल

दिन में कम से कम एक बार खुद से जरूर बात करें अन्यथा आप एक उत्कृष्ट व्यक्ति के साथ एक बैठक गँवा देंगे - din mein kam se kam ek baar khud se jaroor baat karen anyatha aap ek utkrsht vyakti ke saath ek baithak ganva denge. : स्वामी विवेकानन्द

दिन में कम से कम एक बार खुद से जरूर बात करें अन्यथा आप एक उत्कृष्ट व्यक्ति के साथ एक बैठक गँवा देंगे। : Din mein kam se kam ek baar khud se jaroor baat karen anyatha aap ek utkrsht vyakti ke saath ek baithak ganva denge. - स्वामी विवेकानन्द

स्वभाव रखना है तो एक छोटे से दीपक की तरह रखो यो गरीब की झोंपड़ी में भी उतनी रौशनी देता है जितनी कि एक राजा के महल में देता है - swabhav rakhna hai to ek deepak ki tarah rakho joki gareeb ki jhpdi me bhi utni hi roshni deta hai jitna ki raja ke mahal mein : दीपक चोपड़ा

स्वभाव रखना है तो एक छोटे से दीपक की तरह रखो यो गरीब की झोंपड़ी में भी उतनी रौशनी देता है जितनी कि एक राजा के महल में देता है। : Swabhav rakhna hai to ek deepak ki tarah rakho joki gareeb ki jhpdi me bhi utni hi roshni deta hai jitna ki raja ke mahal mein - दीपक चोपड़ा