ऊँचे उठो, प्रसुप्त को जगाओं, जो महान् है उसका अवलम्बन करो और आगे बढ़ो।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

ऊँचे उठो, प्रसुप्त को जगाओं, जो महान् है उसका अवलम्बन करो और आगे बढ़ो। : Unche utho, prasupta ko jagaao jo mahan hai uska avlamban karo aur aage badho. - प्रज्ञा सुभाषितऊँचे उठो, प्रसुप्त को जगाओं, जो महान् है उसका अवलम्बन करो और आगे बढ़ो। : Unche utho, prasupta ko jagaao jo mahan hai uska avlamban karo aur aage badho. - प्रज्ञा सुभाषित

unche utho, prasupta ko jagaao jo mahan hai uska avlamban karo aur aage badho. | ऊँचे उठो, प्रसुप्त को जगाओं, जो महान् है उसका अवलम्बन करो और आगे बढ़ो।