सद्‌विचार तब तक मधुर कल्पना भर बने रहते हैं, जब तक उन्हें कार्य रूप में परिणत नहीं किया जाय।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

सद्‌विचार तब तक मधुर कल्पना भर बने रहते हैं, जब तक उन्हें कार्य रूप में परिणत नहीं किया जाय। : Sadvichar tab tak madhur kalpana bhar bane rahte hain, jab tak unhe karya roop me parinit nahi kiya jata. - प्रज्ञा सुभाषितसद्‌विचार तब तक मधुर कल्पना भर बने रहते हैं, जब तक उन्हें कार्य रूप में परिणत नहीं किया जाय। : Sadvichar tab tak madhur kalpana bhar bane rahte hain, jab tak unhe karya roop me parinit nahi kiya jata. - प्रज्ञा सुभाषित

Leave A Reply

Your email address will not be published.