सत्संग और प्रवचनों का-स्वाध्याय और सुदपदेशों का तभी कुछ मूल्य है, जब उनके अनुसार कार्य करने की प्रेरणा मिले, अन्यथा यह सब भी कोरी बुद्धिमत्ता मात्र है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

सत्संग और प्रवचनों का-स्वाध्याय और सुदपदेशों का तभी कुछ मूल्य है, जब उनके अनुसार कार्य करने की प्रेरणा मिले, अन्यथा यह सब भी कोरी बुद्धिमत्ता मात्र है। : Satsang aur pravachano ka swadhyay aur sadudeshon ka tabhi kuchh moolya hai jab unke anusar karya karne ki prerna mile. anyatha yah sab bhi kori buddhimatta matra hai. - प्रज्ञा सुभाषितसत्संग और प्रवचनों का-स्वाध्याय और सुदपदेशों का तभी कुछ मूल्य है, जब उनके अनुसार कार्य करने की प्रेरणा मिले, अन्यथा यह सब भी कोरी बुद्धिमत्ता मात्र है। : Satsang aur pravachano ka swadhyay aur sadudeshon ka tabhi kuchh moolya hai jab unke anusar karya karne ki prerna mile. anyatha yah sab bhi kori buddhimatta matra hai. - प्रज्ञा सुभाषित

Leave A Reply

Your email address will not be published.