मस्तिष्क में जिस प्रकार के विचार भरे रहते हैं वस्तुत: उसका संग्रह ही सच्ची परिस्थिति है। उसी के प्रभाव से जीवन की दिशाएँ बनती और मुड़ती रहती हैं।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

मस्तिष्क में जिस प्रकार के विचार भरे रहते हैं वस्तुत: उसका संग्रह ही सच्ची परिस्थिति है। उसी के प्रभाव से जीवन की दिशाएँ बनती और मुड़ती रहती हैं। : Mastishka me jis prakar ke vichar bhare rahte hain vastutah unka sangrah  hi sachchi paristhiti hai unhi ke prabhav se jeevan ki dishaye banti aur mudti hain. - प्रज्ञा सुभाषितमस्तिष्क में जिस प्रकार के विचार भरे रहते हैं वस्तुत: उसका संग्रह ही सच्ची परिस्थिति है। उसी के प्रभाव से जीवन की दिशाएँ बनती और मुड़ती रहती हैं। : Mastishka me jis prakar ke vichar bhare rahte hain vastutah unka sangrah  hi sachchi paristhiti hai unhi ke prabhav se jeevan ki dishaye banti aur mudti hain. - प्रज्ञा सुभाषित

mastishka me jis prakar ke vichar bhare rahte hain vastutah unka sangrah hi sachchi paristhiti hai unhi ke prabhav se jeevan ki dishaye banti aur mudti hain. | मस्तिष्क में जिस प्रकार के विचार भरे रहते हैं वस्तुत: उसका संग्रह ही सच्ची परिस्थिति है। उसी के प्रभाव से जीवन की दिशाएँ बनती और मुड़ती रहती हैं।