मनुष्य जीवन का पूरा विकास गलत स्थानों, गलत विचारों और गलत दृष्टिकोणों से मन और शरीर को बचाकर उचित मार्ग पर आरूढ़ कराने से होता है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

मनुष्य जीवन का पूरा विकास गलत स्थानों, गलत विचारों और गलत दृष्टिकोणों से मन और शरीर को बचाकर उचित मार्ग पर आरूढ़ कराने से होता है। : Manushya jeevan ka poora vikas galat sthano, galat vicharo, galat drishtikono se man aur shareer ko bachakar uchit maarg par aaroodh karane se hota hai. - प्रज्ञा सुभाषितमनुष्य जीवन का पूरा विकास गलत स्थानों, गलत विचारों और गलत दृष्टिकोणों से मन और शरीर को बचाकर उचित मार्ग पर आरूढ़ कराने से होता है। : Manushya jeevan ka poora vikas galat sthano, galat vicharo, galat drishtikono se man aur shareer ko bachakar uchit maarg par aaroodh karane se hota hai. - प्रज्ञा सुभाषित

manushya jeevan ka poora vikas galat sthano, galat vicharo, galat drishtikono se man aur shareer ko bachakar uchit maarg par aaroodh karane se hota hai. | मनुष्य जीवन का पूरा विकास गलत स्थानों, गलत विचारों और गलत दृष्टिकोणों से मन और शरीर को बचाकर उचित मार्ग पर आरूढ़ कराने से होता है।