वह जो पचास लोगों से प्रेम करता है उसके पचास संकट हैं, वो जो किसी से प्रेम नहीं करता उसके एक भी संकट नहीं है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

वह जो पचास लोगों से प्रेम करता है उसके पचास संकट हैं, वो जो किसी से प्रेम नहीं करता उसके एक भी संकट नहीं है। : Wah jo pachaas logo se prem karta hai uske pachaas sankat hain aur jo kisi se prem nahi karta use koi sankat nahin. - गौतम बुद्धवह जो पचास लोगों से प्रेम करता है उसके पचास संकट हैं, वो जो किसी से प्रेम नहीं करता उसके एक भी संकट नहीं है। : Wah jo pachaas logo se prem karta hai uske pachaas sankat hain aur jo kisi se prem nahi karta use koi sankat nahin. - गौतम बुद्ध

wah jo pachaas logo se prem karta hai uske pachaas sankat hain aur jo kisi se prem nahi karta use koi sankat nahin. | वह जो पचास लोगों से प्रेम करता है उसके पचास संकट हैं, वो जो किसी से प्रेम नहीं करता उसके एक भी संकट नहीं है।