व्यक्ति अपने विचारों के सिवाय कुछ नहीं है. वह जो सोचता है, वह बन जाता है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

व्यक्ति अपने विचारों के सिवाय कुछ नहीं है. वह जो सोचता है, वह बन जाता है। : Vyakti apane vichaaron ke sivaay kuchh nahin hai. vah jo sochata hai, vah ban jaata hai. - महात्मा गाँधीव्यक्ति अपने विचारों के सिवाय कुछ नहीं है. वह जो सोचता है, वह बन जाता है। : Vyakti apane vichaaron ke sivaay kuchh nahin hai. vah jo sochata hai, vah ban jaata hai. - महात्मा गाँधी

vyakti apane vichaaron ke sivaay kuchh nahin hai. vah jo sochata hai, vah ban jaata hai. | व्यक्ति अपने विचारों के सिवाय कुछ नहीं है. वह जो सोचता है, वह बन जाता है।