तुम कहते हो की स्वर्ग में शाश्वत सौंदर्य है,शाश्वत सौंदर्य अभी है यहाँ ,स्वर्ग में नही।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

तुम कहते हो की स्वर्ग में शाश्वत सौंदर्य है,शाश्वत सौंदर्य अभी है यहाँ ,स्वर्ग में नही। : Tum kehte ho ki swarg me shashwat saundarya hai, shashwat saundarya abhi hai yahan, swarg me nahin. - आचार्य रजनीश 'ओशो'तुम कहते हो की स्वर्ग में शाश्वत सौंदर्य है,शाश्वत सौंदर्य अभी है यहाँ ,स्वर्ग में नही। : Tum kehte ho ki swarg me shashwat saundarya hai, shashwat saundarya abhi hai yahan, swarg me nahin. - आचार्य रजनीश 'ओशो'

Leave A Reply

Your email address will not be published.