सवाल ये नहीं है कि कितना सीखा जा सकता है…इसके उलट, सवाल ये है कि कितना भुलाया जा सकता है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

सवाल ये नहीं है कि कितना सीखा जा सकता है…इसके उलट, सवाल ये है कि कितना भुलाया जा सकता है। : Sawal yah nahi hai ki kitna seekha ja sakta hai iske ulat yah sawal hai ki kitna bhulaya ja sakta hai. - आचार्य रजनीश 'ओशो'सवाल ये नहीं है कि कितना सीखा जा सकता है…इसके उलट, सवाल ये है कि कितना भुलाया जा सकता है। : Sawal yah nahi hai ki kitna seekha ja sakta hai iske ulat yah sawal hai ki kitna bhulaya ja sakta hai. - आचार्य रजनीश 'ओशो'

sawal yah nahi hai ki kitna seekha ja sakta hai iske ulat yah sawal hai ki kitna bhulaya ja sakta hai. | सवाल ये नहीं है कि कितना सीखा जा सकता है…इसके उलट, सवाल ये है कि कितना भुलाया जा सकता है।