कला मानवीय आत्मा की गहरी परतों को उजागर करती है। कला तभी संभव है जब स्वर्ग धरती को छुए |

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

कला मानवीय आत्मा की गहरी परतों को उजागर करती है। कला तभी संभव है जब स्वर्ग धरती को छुए | : Kalaa manvey aatma ki gehri paraton ko ujaagar karti hai, kalaa tabhi sambhav hai jab swarg dharti ko chhue. - डॉ॰ सर्वपल्ली राधाकृष्णनकला मानवीय आत्मा की गहरी परतों को उजागर करती है। कला तभी संभव है जब स्वर्ग धरती को छुए | : Kalaa manvey aatma ki gehri paraton ko ujaagar karti hai, kalaa tabhi sambhav hai jab swarg dharti ko chhue. - डॉ॰ सर्वपल्ली राधाकृष्णन

kalaa manvey aatma ki gehri paraton ko ujaagar karti hai, kalaa tabhi sambhav hai jab swarg dharti ko chhue. | कला मानवीय आत्मा की गहरी परतों को उजागर करती है। कला तभी संभव है जब स्वर्ग धरती को छुए |