इस मक्कार दुनिया में कुछ भी स्थायी नहीं है, यहाँ तक की हमारी परेशानिया भी नहीं।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

इस मक्कार दुनिया में कुछ भी स्थायी नहीं है, यहाँ तक की हमारी परेशानिया भी नहीं। : Is makkar duniya me kuchh bhi sthaayi nahin hai yahan tak ki hamari pareshaniya bhi. - चार्ली चैपलिनइस मक्कार दुनिया में कुछ भी स्थायी नहीं है, यहाँ तक की हमारी परेशानिया भी नहीं। : Is makkar duniya me kuchh bhi sthaayi nahin hai yahan tak ki hamari pareshaniya bhi. - चार्ली चैपलिन

is makkar duniya me kuchh bhi sthaayi nahin hai yahan tak ki hamari pareshaniya bhi. | इस मक्कार दुनिया में कुछ भी स्थायी नहीं है, यहाँ तक की हमारी परेशानिया भी नहीं।