एक ऐसा क्षण जो इतिहास में बहुत ही कम आता है, जब हम पुराने के छोड़ नए की तरफ जाते हैं, जब एक युग का अंत होता है, और जब वर्षों से शोषित एक देश की आत्मा, अपनी बात कह सकती है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

एक ऐसा क्षण जो इतिहास में बहुत ही कम आता है, जब हम पुराने के छोड़ नए की तरफ जाते हैं, जब एक युग का अंत होता है, और जब वर्षों से शोषित एक देश की आत्मा, अपनी बात कह सकती है। : Ek aisa kshan jo itihas me bahut kam aata hai jab hum puraane ko chhodkar naye ki taraf jate hai jab ek yug ka ant hota hai aur jab varsho se shoshit ek desh ki aatma apni baat kah sakti hai. - जवाहरलाल नेहरूएक ऐसा क्षण जो इतिहास में बहुत ही कम आता है, जब हम पुराने के छोड़ नए की तरफ जाते हैं, जब एक युग का अंत होता है, और जब वर्षों से शोषित एक देश की आत्मा, अपनी बात कह सकती है। : Ek aisa kshan jo itihas me bahut kam aata hai jab hum puraane ko chhodkar naye ki taraf jate hai jab ek yug ka ant hota hai aur jab varsho se shoshit ek desh ki aatma apni baat kah sakti hai. - जवाहरलाल नेहरू

ek aisa kshan jo itihas me bahut kam aata hai jab hum puraane ko chhodkar naye ki taraf jate hai jab ek yug ka ant hota hai aur jab varsho se shoshit ek desh ki aatma apni baat kah sakti hai. | एक ऐसा क्षण जो इतिहास में बहुत ही कम आता है, जब हम पुराने के छोड़ नए की तरफ जाते हैं, जब एक युग का अंत होता है, और जब वर्षों से शोषित एक देश की आत्मा, अपनी बात कह सकती है।