उत्कृष्ट जीवन का स्वरूप है-दूसरों के प्रति नम्र और अपने प्रति कठोर होना।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

उत्कृष्ट जीवन का स्वरूप है-दूसरों के प्रति नम्र और अपने प्रति कठोर होना। : Utkrishta jeevan ka swaroop hai doosro ke prati namra aur apne prati kathor hona. - प्रज्ञा सुभाषितउत्कृष्ट जीवन का स्वरूप है-दूसरों के प्रति नम्र और अपने प्रति कठोर होना। : Utkrishta jeevan ka swaroop hai doosro ke prati namra aur apne prati kathor hona. - प्रज्ञा सुभाषित

Leave A Reply

Your email address will not be published.