मनुष्य का प्रमुख लक्ष्य भोजन प्राप्त करना ही नहीं है। एक कौवा भी जीवित रहता है और जूठन पर पलता है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

मनुष्य का प्रमुख लक्ष्य भोजन प्राप्त करना ही नहीं है। एक कौवा भी जीवित रहता है और जूठन पर पलता है। : Manushya ka pramukh lakshya bhojan prapt karna nahin hai. ek kauwa bhi jeevit rahta hai aur hoothan par palta hai. - बाल गंगाधर तिलकमनुष्य का प्रमुख लक्ष्य भोजन प्राप्त करना ही नहीं है। एक कौवा भी जीवित रहता है और जूठन पर पलता है। : Manushya ka pramukh lakshya bhojan prapt karna nahin hai. ek kauwa bhi jeevit rahta hai aur hoothan par palta hai. - बाल गंगाधर तिलक

manushya ka pramukh lakshya bhojan prapt karna nahin hai. ek kauwa bhi jeevit rahta hai aur hoothan par palta hai. | मनुष्य का प्रमुख लक्ष्य भोजन प्राप्त करना ही नहीं है। एक कौवा भी जीवित रहता है और जूठन पर पलता है।