क्रोध मूर्खों की छाती में ही बसता है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

क्रोध मूर्खों की छाती में ही बसता है। : Krodh moorkhon ki chhati me hi basta hai. - अल्बर्ट आइन्स्टाइनक्रोध मूर्खों की छाती में ही बसता है। : Krodh moorkhon ki chhati me hi basta hai. - अल्बर्ट आइन्स्टाइन

krodh moorkhon ki chhati me hi basta hai. | क्रोध मूर्खों की छाती में ही बसता है।