किसी से किसी भी तरह की प्रतिस्पर्धा की आवश्यकता नहीं है। आप स्वयं में जैसे हैं एकदम सही हैं। खुद को स्वीकारिये।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

किसी से किसी भी तरह की प्रतिस्पर्धा की आवश्यकता नहीं है। आप स्वयं में जैसे हैं एकदम सही हैं। खुद को स्वीकारिये। : Kisi se kisi bhi tarah ki pratispardha ki avshyakta nahi hai. aap svayam me jaise hain ekdum sahi hain. khud ko sveekariye - आचार्य रजनीश 'ओशो'किसी से किसी भी तरह की प्रतिस्पर्धा की आवश्यकता नहीं है। आप स्वयं में जैसे हैं एकदम सही हैं। खुद को स्वीकारिये। : Kisi se kisi bhi tarah ki pratispardha ki avshyakta nahi hai. aap svayam me jaise hain ekdum sahi hain. khud ko sveekariye - आचार्य रजनीश 'ओशो'

kisi se kisi bhi tarah ki pratispardha ki avshyakta nahi hai. aap svayam me jaise hain ekdum sahi hain. khud ko sveekariye | किसी से किसी भी तरह की प्रतिस्पर्धा की आवश्यकता नहीं है। आप स्वयं में जैसे हैं एकदम सही हैं। खुद को स्वीकारिये।