जो अग्नि हमें गर्मी देती है, हमें नष्ट भी कर सकती है। यह अग्नि का दोष नहीं है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

जो अग्नि हमें गर्मी देती है, हमें नष्ट भी कर सकती है। यह अग्नि का दोष नहीं है। : Jo agni hamen garmee detee hai, hamen nasht bhee kar sakatee hai. yah agni ka dosh nahin hai. - स्वामी विवेकानन्दजो अग्नि हमें गर्मी देती है, हमें नष्ट भी कर सकती है। यह अग्नि का दोष नहीं है। : Jo agni hamen garmee detee hai, hamen nasht bhee kar sakatee hai. yah agni ka dosh nahin hai. - स्वामी विवेकानन्द

jo agni hamen garmee detee hai, hamen nasht bhee kar sakatee hai. yah agni ka dosh nahin hai. | जो अग्नि हमें गर्मी देती है, हमें नष्ट भी कर सकती है। यह अग्नि का दोष नहीं है।