जिस प्रकार एक ही आकाश पात्र के भीतर और बाहर व्याप्त है, उसी प्रकार शाश्वत और सतत परमात्मा समस्त प्राणियों में विद्यमान है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

जिस प्रकार एक ही आकाश पात्र के भीतर और बाहर व्याप्त है, उसी प्रकार शाश्वत और सतत परमात्मा समस्त प्राणियों में विद्यमान है। : Jis prakar ek hi aakash patra ke bheetar aur bahar vyapta hai, usi prakar shashwat aur satat parmatma samast praniyo me vidyaman hai. - अष्टावक्रजिस प्रकार एक ही आकाश पात्र के भीतर और बाहर व्याप्त है, उसी प्रकार शाश्वत और सतत परमात्मा समस्त प्राणियों में विद्यमान है। : Jis prakar ek hi aakash patra ke bheetar aur bahar vyapta hai, usi prakar shashwat aur satat parmatma samast praniyo me vidyaman hai. - अष्टावक्र

jis prakar ek hi aakash patra ke bheetar aur bahar vyapta hai, usi prakar shashwat aur satat parmatma samast praniyo me vidyaman hai. | जिस प्रकार एक ही आकाश पात्र के भीतर और बाहर व्याप्त है, उसी प्रकार शाश्वत और सतत परमात्मा समस्त प्राणियों में विद्यमान है।