हर काम को तीन अवस्थाओं से गुज़रना होता है – उपहास, विरोध और स्वीकृति।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

हर काम को तीन अवस्थाओं से गुज़रना होता है – उपहास, विरोध और स्वीकृति। : Har kaam ko teen avasthaon se guzarana hota hai – upahaas, virodh aur sveekrti. - स्वामी विवेकानन्दहर काम को तीन अवस्थाओं से गुज़रना होता है – उपहास, विरोध और स्वीकृति। : Har kaam ko teen avasthaon se guzarana hota hai – upahaas, virodh aur sveekrti. - स्वामी विवेकानन्द

har kaam ko teen avasthaon se guzarana hota hai – upahaas, virodh aur sveekrti. | हर काम को तीन अवस्थाओं से गुज़रना होता है – उपहास, विरोध और स्वीकृति।