एक ज़माना ऐसा भी आएगा कि लोग अपने रब को भुल जाएंगे,लिबास बहुत क़ीमती पहन कर बज़ार में अकड़ कर चलेंगे और इस बात से बेखबर होंगे के उसी बाज़ार में उन का कफन मौजूद है - ek zamana aisa bhi ayega ki log apne rab ko bhul jayenge, libaas bahut kimati pahan kar bazaar mein akadkar chalenge aur is baat se bekhabar honge ke usi baazaar mein unka kafan maujood hai. : हजरत अली

एक ज़माना ऐसा भी आएगा कि लोग अपने रब को भुल जाएंगे,लिबास बहुत क़ीमती पहन कर बज़ार में अकड़ कर चलेंगे और इस बात से बेखबर होंगे के उसी बाज़ार में उन का कफन मौजूद है । : Ek zamana aisa bhi ayega ki log apne rab ko bhul jayenge, libaas bahut kimati pahan kar bazaar mein akadkar chalenge aur is baat se bekhabar honge ke usi baazaar mein unka kafan maujood hai. - हजरत अली

इंसान मायूस और परेशान इसलिए होता है, क्योंकि वो अपने रब को राज़ी करने के बजाये लोगों को राज़ी करने में लगा रहता है - insaan mayoos aur pareshaan islyie hota hai, kyonki wo apne rab ko raazi karne ke bajaye logon ko raazi karne mein laga rahta hai. : हजरत अली

इंसान मायूस और परेशान इसलिए होता है, क्योंकि वो अपने रब को राज़ी करने के बजाये लोगों को राज़ी करने में लगा रहता है। : Insaan mayoos aur pareshaan islyie hota hai, kyonki wo apne rab ko raazi karne ke bajaye logon ko raazi karne mein laga rahta hai. - हजरत अली