व्यस्त रहना काफ़ी नहीं है, व्यस्त तो चींटियाँ भी रहती हैं। सवाल यह है – हम किस लिए व्यस्त हैं?

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

व्यस्त रहना काफ़ी नहीं है, व्यस्त तो चींटियाँ भी रहती हैं। सवाल यह है – हम किस लिए व्यस्त हैं? : Vyast rahna kaafi nahi hai, vyastto cheentiyaan bhi rahti hain. sawal yah hai - hum kis liye hain? - हेनरी डेविड थोरोव्यस्त रहना काफ़ी नहीं है, व्यस्त तो चींटियाँ भी रहती हैं। सवाल यह है – हम किस लिए व्यस्त हैं? : Vyast rahna kaafi nahi hai, vyastto cheentiyaan bhi rahti hain. sawal yah hai - hum kis liye hain? - हेनरी डेविड थोरो

vyast rahna kaafi nahi hai, vyastto cheentiyaan bhi rahti hain. sawal yah hai - hum kis liye hain? | व्यस्त रहना काफ़ी नहीं है, व्यस्त तो चींटियाँ भी रहती हैं। सवाल यह है – हम किस लिए व्यस्त हैं?