शिक्षित मन की यह पहचान है की वो किसी भी विचार को स्वीकार किए बिना उसके साथ सहज रहे।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

शिक्षित मन की यह पहचान है की वो किसी भी विचार को स्वीकार किए बिना उसके साथ सहज रहे। : Shikshit man ki yah pahchan hai ki wo kisi bhi prakar ke vichar ko sveekar kiye bina uske sath sahaj rah sake - अरस्तुशिक्षित मन की यह पहचान है की वो किसी भी विचार को स्वीकार किए बिना उसके साथ सहज रहे। : Shikshit man ki yah pahchan hai ki wo kisi bhi prakar ke vichar ko sveekar kiye bina uske sath sahaj rah sake - अरस्तु

shikshit man ki yah pahchan hai ki wo kisi bhi prakar ke vichar ko sveekar kiye bina uske sath sahaj rah sake | शिक्षित मन की यह पहचान है की वो किसी भी विचार को स्वीकार किए बिना उसके साथ सहज रहे।