शिक्षित मन की यह पहचान है की वो किसी भी विचार को स्वीकार किए बिना उसके साथ सहज रहे।

रचनाकार :
इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

शिक्षित मन की यह पहचान है की वो किसी भी विचार को स्वीकार किए बिना उसके साथ सहज रहे। : Shikshit man ki yah pahchan hai ki wo kisi bhi prakar ke vichar ko sveekar kiye bina uske sath sahaj rah sake - अरस्तुशिक्षित मन की यह पहचान है की वो किसी भी विचार को स्वीकार किए बिना उसके साथ सहज रहे। : Shikshit man ki yah pahchan hai ki wo kisi bhi prakar ke vichar ko sveekar kiye bina uske sath sahaj rah sake - अरस्तु

Leave A Reply

Your email address will not be published.