किसी मूर्ख व्यक्ति के लिए किताबें उतनी ही उपयोगी हैं जितना कि एक अंधे व्यक्ति के लिए आईना।

रचनाकार :
इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

किसी मूर्ख व्यक्ति के लिए किताबें उतनी ही उपयोगी हैं जितना कि एक अंधे व्यक्ति के लिए आईना। : Kisi moorkh vyakti ke liye kitaabe utni hi upyogi hain jitna andhe ke liye aaina - चाणक्यकिसी मूर्ख व्यक्ति के लिए किताबें उतनी ही उपयोगी हैं जितना कि एक अंधे व्यक्ति के लिए आईना। : Kisi moorkh vyakti ke liye kitaabe utni hi upyogi hain jitna andhe ke liye aaina - चाणक्य

Leave A Reply

Your email address will not be published.