हर मित्रता के पीछे कोई ना कोई स्वार्थ होता है। ऐसी कोई मित्रता नहीं जिसमे स्वार्थ ना हो। यह कड़वा सच है।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

हर मित्रता के पीछे कोई ना कोई स्वार्थ होता है। ऐसी कोई मित्रता नहीं जिसमे स्वार्थ ना हो। यह कड़वा सच है। : Har mitrata ke peeche koi na koi swarth hota hai iesi koi mitrata nahi jisme svarth na ho yah kadwa sach hai. - चाणक्यहर मित्रता के पीछे कोई ना कोई स्वार्थ होता है। ऐसी कोई मित्रता नहीं जिसमे स्वार्थ ना हो। यह कड़वा सच है। : Har mitrata ke peeche koi na koi swarth hota hai iesi koi mitrata nahi jisme svarth na ho yah kadwa sach hai. - चाणक्य

har mitrata ke peeche koi na koi swarth hota hai iesi koi mitrata nahi jisme svarth na ho yah kadwa sach hai. | हर मित्रता के पीछे कोई ना कोई स्वार्थ होता है। ऐसी कोई मित्रता नहीं जिसमे स्वार्थ ना हो। यह कड़वा सच है।