एकांगी अथवा पक्षपाती मस्तिष्क कभी भी अच्छा मित्र नहीं रहता।

इमेज का डाउनलोड लिंक नीचे दिया गया है

एकांगी अथवा पक्षपाती मस्तिष्क कभी भी अच्छा मित्र नहीं रहता। : Ekangi athva pakshapaati mastisk kabhi bhi achcha mitra nahi rakh sakta - प्रज्ञा सुभाषितएकांगी अथवा पक्षपाती मस्तिष्क कभी भी अच्छा मित्र नहीं रहता। : Ekangi athva pakshapaati mastisk kabhi bhi achcha mitra nahi rakh sakta - प्रज्ञा सुभाषित
jj एकांगी अथवा पक्षपाती मस्तिष्क कभी भी अच्छा मित्र नहीं रहता। : Ekangi athva pakshapaati mastisk kabhi bhi achcha mitra nahi rakh sakta - Desktop

Leave A Reply

Your email address will not be published.