जो आपको दुश्मन समझते हैं,उनसे भी मित्रवत व्यवहार करना सच्चे धर्म का मर्म है. - jo aapko dushman samjhte hain unse bhi mitravat vyavhaar karna sachche dharm ka marm hai. : महात्मा गाँधी

जो आपको दुश्मन समझते हैं,उनसे भी मित्रवत व्यवहार करना सच्चे धर्म का मर्म है. : Jo aapko dushman samjhte hain unse bhi mitravat vyavhaar karna sachche dharm ka marm hai. - महात्मा गाँधी